Saturday, 3 October 2015

मैं एक भिखारी बनता

लेखक बनने से बेहतर था
मैं एक भिखारी बनता
या एक पागल बनता
कम से कम मैं मौत के आगे
अपना सर तो नहीं करता।।

No comments:

Post a Comment